कथा

कथा

गणेश चाैधरी टीकापुर

मै छुति म से स्कुल पर्ह लग्नु ता कि मै शिसु व एक कलास म पहर्लक पत नै पैठु।

जबसे पता पैठु त हरेक किसिम के समस्या कबु काँपी नैरना कबु कलम त कबु मेत्ता लेहक लाग रो रो के डाई से झगर खेल खेल पैसा मागु कबु रहिस त देह नै त सम्झा के मीच्छा जाए त ठाप्परले पीटके स्कुल पठाए।

वस्तके समय फे बितल समय संग ईच्छा आवश्क्ता फे बहर्ति गैल मै फे नौ कलास म पुग्नु महि पेन,किताब,कपी,मजा मजा लुगा, जुत्ता व चप्पल,जेब खर्च चहलागल वह पुगैना त कर्रा रह उह समय म एक ठो हमर कलास के लवरिया से मैया बैठ जाइठ मै पर्हाइ वर्हाइ छोर्के हुकाहार पाछ लाग लग्नु कलास छोर्के हम़र घुम जाइ लग्लि मै बाब से ठग ठग पैसा मागलग्नु ।

जब एक दिन बाब पैसा नैदेहल त सोच लग्नु बाबाक पर्स म पैसा बातीस तब त किहु नै छुव देहत व पैसा रति रति फे नैदेहत सोचके आब मै घरम से भाग जैम कैके बाब पर्स चोरके भागबेर मन मन बहुत पैसा कमाके आपन लाग ज्या ज्या मन लागि उ सब किनम सोच्ति बस पार्क म जाइतहु आधा डग्रिम चप्पल छिरके पौलीम किल्ला गहज के रकत आइलागल चप्पल उठाके हेर्न त जम्म खियाइल रह पत्त नै पइनु बाबक चप्पल घल्ल रहु तबु वस्तह बजार बसपार्क पुग्गिनु बस असिया लागतु  

क्रमश ……………….।।।।।