छट्री

छट्री

असार्ह परल सबकोई बर्खहा सामा करटै ओस्टेक फगनी फे बर्खहा सामा कर्नाम सौसेटल रठिन। सबकुछ टो जुटासेक्ठी घारिक अटुवा मन्से डैजहा पाईल पुरान छट्री निकर्ठिन। छट्री टो टुटल निकरठ फगनी हट्पट अपन बड्डा(छेङ्गरा) हे कठिन ब्रुह्वा ब्रुह्वा लेउ छट्री बनादेउ।
छेङगरा- नाई जन्ठु रे छाता लैदेम।
फगनी बरबरैटी कठि मैनी लेठु छाटा साटा। छट्रीक बराबर कहु छाटा पानी रोकी पहिले बाबानके रहै टो कुछ खटिया गोन्द्री न छट्री टट्री बनैना सीप सिख्लो अब के सिखाडी सब कुछ बजर्है चली टो बचत कैसिक हुई? पुर्खनसे चलति आईल सीप कला गला गीतबाँस आझकलिक मनै सिख्ना झन्झट मन्ठै ओहेक मारे हमार थारू पहिचाने ओराचुकल। महिन कुछ पटा नाई हो टुह कहाँसे सिख्ठो कैसिक सिख्ठो मनो खेट्वाम पेल्नसे पहिले जैसिकफे छट्री बनाके चाहल छट्रीक बराबर कहु छाटा हुई सेकि जब बाबनके सिखो छावा कहै टो ब्रुह्वा बर्बर बर्बर करठ कैहके टन मारके जुवा खेले जाउ आझ पस्टो हुईल।
छेङ्गरा माठ पिट्टी मनमे सोचठ सिखे परल टो भग्नु आझ पटा मिलल थारूनके पाछे बुद्धि आईठ कैहके हे! भगवान अब यी छट्री बनैना सिखे कहाँ जैना हो। सीप नाई सिखके बरा भारी गल्ती हुईगील।
#असिराम डंगौरा
जोशीपुर ५ सिमराना