छुटिबट्कोही

छुटिबट्कोही

गाउँघरम आज खुसिक बहार छाईल बा। आज डस्या
लर्कापर्का लौवा लुगा लगाई पाक फुन्याँईट महटानघर नाच ह्यार जिना सँग पारट बाट। ठर्या ओ बठ्न्यावन आपन आपन टारम बाट। असौ ट नुक्लीकपुर्वा पैँया लगाई जिना हो। अरे यार ढंम्लाहान बास्या रहट ट आउर मजा अइने रह। रै सन्चु बासेक नाउँ जिन ल्या टै महि रिस लग्ठा। सारे गडाहा बिडेस गिल टब्से ट हमहन ट सम्झ छोर डेहल।

गाउँम ठर्या बठिनिया लर्का पर्का बुह्राइ सब जहानक मुहारम चमक रठिन। लेकिन ढंम्लाहान घरम भर साई सुइ। चौंकस रहहिनफे कसिख चौंकस करैना ढुर खम्हा जो ढलगिल बाटिन। बास्या ढंम्लौहोक बर्का छावा। बासु नाउँ रलसेफे गाउँम बास्या कैख ढ्यार जसिन मनै चिन्ठ। परिस्टिट्क बंढ्वा फुट्क ढन्मनैटी पुहाक लैजाईट। डाई बाबक डु:ख सह नि सेक्क बास्या परडेस मलेसिया पुग्ठ। डेवारिम सहर बजारम टाँगल छिल्मिलिया हस चारुवर झिक्मिक झिक्मिक राटफे डिन हस ओज्रार। छ महिना सम्म घर मज पैसा पठइल। रिनक कुठ्ली आढा भर सेक्ल रह। एकाएक उहाक सहरम भुलट गिल। घर पर्यारह बिस्रैटी गिल। जट्रा कमैलसेफे जार डारु मौज मस्टि उराई लगल। डिउटी ओराक लहाखोर कैख बिस्टारम कुब्बर सोझार लगट, स्वर्ग लोकसे परि मेनुका हस छुलसे डाग लग्ना हस झगझग उज्जर मुहारक सुघर बठिनिया आपनठे पैठ। “अस्गर्वक माना भगन्वा पुगाडेठ” कठ सच हो काहु मन-मन सोचट। मैयले भरल मिठ-मिठ बाट कर्ठ। लागट आज मनरख्ना ओ मनरख्निक बहुट साल पाछ भ्याट हुइल बाट। बाट कर्टी-कर्टी छुवक लाग का रहट।

खबरडार! टै महि जिन छु, टै पापी हुइस, टै हट्यारा हुइस। घरक रिन टिर्क डाई बाबह सुखम ढर्ना सपनक
घ्याचा डाबडाबक मुवैल बाट्या कटि बास्यक आघ रुप फेर्क बैठ जाईट। उ ट सपना डेबि रठी। आपन भ्याग फेर्क आईल रठी। यी संसारम जिना ट्वाँर कौंनो अधिकार नि हो कटि घ्याचा डाब आई लग्ठिस ट जाग जाईट। खलबखल पस्ना पसिन डारुक डप्कन खोल्ना मनै आज बल्ल डिमगक ड्प्कन खुलल पटा पाईट। बास्या हाट जोर्टी माफ मागट। टँगिक बिच्या पठ्रा छिराईट। आब गलत डगर कब्बु नि नेगम कैख कसम खाईट।

#डियर_अबिरल