बिष

बिष

असौं जेठेमे खेटी लगागील खेट्वाम धान हाली लगा सेक्ली मनो अब ओहे जिउक जन्जाल बने हस करटा। समयमे पानी नाई बर्साठो घाँस खुब जामे लागल कैसिक घाँस पनैना हो कर्रा हुगील। हुईना गल्टी हमारे हो।
अस्टे बाट करटी श्याम ओ सुरेश चिया पियाटहै। टबही होट्लौहौ कहठ डाडुनके का चिन्टा लेहे परल एग्रोभेटमे जाई घाँस मुवैना टमाम मेरिक डवाई मिलठ एकचो छिट्बी घाँस सब सफा का पनैना झन्झट करबी।जवाफमे श्याम कहठै कहाँ बनि हो भाई ऐसिक हर बालीमे हम्रे अपन सजिलेक लग मेरमेरिक डवाई छिट्ठी मनो यकर हानि का हो कैहके कबु बुझ्न कोसिस नाई करठी। यिहीसे खेट्वाम रहल असंख्य किरा बिना कारण सखाप हुजिठै ओम्मेसे टमाम हमार बाली उब्जनीमे साठ डेहुईया किराफे रठै। ओ डोसर बाट हमरे जौन डवाई छिट्ठी ऊ मनैन लग फे एकठो खटरनाक बिष हो। आझकल हमार किसान भैयैह टमाम मेरिक खेटी टिना फलफूल आर्ग्यनिक कैहके उब्जैठै । ढेर नाफा कमाईक लग बालीमे डवाई छिट्ठै चाहे ऊ भिटामिन जानके कहो किरा मुवैना।
ओहे खा खाके हमार शरिरमे बिषके भण्डार बनगिल। टबमारे किसान प्रकृटिक अन्सार खेटी करे परल खेट्वामे गोटगाट घाँस रहि टबे टो पश परोहन पालब।सेकल सम मेहनट करके घाँस पनैना हो कबु घाँस मुवैना कबु भिटामिन कैहके छिट्ना जहर विस्ठापिट करैना चाही। हमार पुर्खनके आयू सौ डेर्ह सौ साल रहे काहेकी ओई बिष नाई डारल अन्ना खाईह हमार साठी हुईल हमार लर्कानके चालिस करटी मानव सभ्याटै ओराजाई। सुरेश कहठ सहि बाट कलि हो गुरभाई चलि अब खेट्वा ओर ओहरी घाँस पनाब।
#असिराम डंगौरा
जोशीपुर ५ सिमराना कैलाली