बोध बृक्ष

बोध बृक्ष

एकठो मनिया नम्मा यात्रा मन रहट यात्रक क्रममन उहिन डटकराहुन लग्ठीस टब एकठो रुख्वक छाँहिम सित्राइ पुगट । भाग्य या दुर्भाग्य का कनाहो बोध वृक्षके तरे सित्राइ पुगठ मने उहिन नैपता रठिस । ऊ ऐसिन वृक्ष रहट की जा कल्पना कर्बो उ सव पुरा हुइना रहट कटि मने उहिन नैपटा रठिस । उहिन पियास खोब सटैटि रठिस टब कल्पना करट पानी पिय मिलटटे बरा मजा लग्नारहे । बस सोँच करटिकिल पानीक बोत्तल ओकर आघे टपक्क आपुग्ठीस टब मजाले उ पियट मने कहाँसे आइल कैसिक आइल कना सोँचे नैबनाइट । जब पानीक पियास ओरैठिस टब उहिन भुँख लग्ठीस टब खानाके कल्पना का करट ओकर आघे मेरमेरके फलफुल खानाके परिकार देखट टब ऊ चारुओर हेरटओ किहनो नैदेखट बस उहिन मजाले चिट बुझाके खाइपुगट ओ खाखुके जब अराम करेलगट टे मजासे निँन आजिठिस ऊ निदैलेक पत्तैनैपाइट । बिचार जब निँन खुल्ठिस टे झमक्क साँझ हुगिल रहट । बनुवा बरा झपस्यार रहटटब ऊ मुर्ख उहिन अभिन होस नैहुइसकि मै जा सोँचटु उ सब कैसिक पुरा हुजाइटा ? बोध वृक्ष के टरे बैठल कल्पना करटु कना पत्तै नैरठिस टब उ गल्टी बस सोँचे पुगट अट्ना झपस्यार बनुवा यी बनुवम से कोइ बाघ आइ ओ महिन खा दिते का हुइ ? बिचारा सोँच्के का सेकट बाघ आके कोपल्यक्क खादेठिस ।

 

images