मै रेशम

मै रेशम

ठिक्के मिलल् जिउ,
सांवर चोक्टा, गुल्यार मुंह्
और न ढ्यार ढेंग, न टो चेभुठ्
नोंन मिर्चक चट्की खाके,
औंलो सिकलसेल पचाके,
हट्टा-कट्टा डेंह् बनाइल,
बिर्कुल आढा टाँरा गिरल,
धर्टिपुट्र कमैयाँ, मनैंयाँ
‘मैं रेशम’

महिन कै मेरिक नाउँ से चिन्ह्ठैं
कलाकार-पत्रकार
गीतकार -संगीतकार
रेडियोकर्मी-सामाजसेवी
राजनेता-जनप्रतिनीधि नेता
मनो महिन ज्या नाउं से
चिन्हले से फे,
मैं उहे ढर्टिपुट्र कमैंयाँ हुइटु,
जिहिन हे सबकोइ
रेशम कहिके चिन्ह्ठैं।

मनों आस्कल
उ रेशम, हट्यारा बनंल बा,
देशड्रोही, देशके गड्डार
सबसे भारि गुन्डा बनल बा,
जिहिन हे कै मेरिक नाउँके बिल्ला भिराइल बा,
आखिर यि सबके दोषी के?
जे टो अपन जिवनकालमे
आढा जिन्गि,
देशके सेवम् बिटाइल
अपन रेडुमें हरडम, देशभक्ति गिट बजाइल,
राटडिन, काम करके, समाज सेवा करल,
कबु फे केक्रो छिनके नाइ खाइल,
आज उहे मनैयैं अट्राभारि नाउँ डेहल,
देशड्रोही, हट्यारा?

महिंन सड्यन्ट्र करके हट्यारा बनाइल
मैं थारु हे सोझ डेखके देशड्रोही बनाइल,
जेकर टो डेंहेक् नस-नस केे खुनमें,
स्वाभिमान डौरटिस्, उहिने
अट्राभारि नाउँसे सम्मान करल,
मैं थारु हे, अट्रा भारि सड्यन्ट्र कर्के
नाइ फसाउ,
मैं एक्ठो घाहिल बघुवा हुँ,
महिन जंजिरमें कसके,
पिंज्रक भिट्टर करियाके
महिन टिस्लार टिर, भाला से नाखोडो
नि टो एकडिन बहुट पस्टैबो टुहुरे,
जब उ घाहिल बघवा,
अपन पन्जा मारि तो टुहुरे,
उठ्ने नाइ हुइटो उठ् जैने बाटो,

महिन, नाइ हुइना आरोप लगैलो,
जेकर मैं डोसि नै रहुँ,
टभुन फे महिन, कारागार पठैलो,
यडि मैं दोषी रहटुं टो,
टुहुरनसे ढ्यार ८३ हजार भोट लानके नाइ जिट्ने रहुं,
यडि मैं डोसि रहटुं टो, प्रवास मे बैठके फे
देशबासि जन्टनके डिलमें नै बैठ्ने रहुँ,
दुधके दुध पानीके पानी,
अल्पट्रे बिल्गाइल बा,
टब् फे काहे महिन, आजिवन जेल करैलो?
मोर भरल पुरल जिन्गि बिग्रैलो?

छावक् लेख्ना कलम नै हुइस्
स्कुल जैना साइकल नै हुइस्
फाटल झोला, फाटल झुल्वा,
लैके, रोइटी जाइठ स्कुल,
आपन डाइ हे, हरडम चिल्लाइठ,
डाइ बाबा खोइ?
महिन के स्कुल लैजाइ?
महिन के भेर्भड्डम् घुमाइ?
बस् सतैले रहठ दिनभर,
के देखल मोर लडाइ?
के सुनल मोर कहानी?
अब कब् आइ?
ओजरार बिहानी?
अब टुँहीं बताउ
हे मोर न्यायडाटा
कैसिक खुली मोर जिन्गिक् खाता ।