थारूनके मुड्डा लैके थरूहट थरूहट कैनु हजुर

थारूनके मुड्डा लैके थरूहट थरूहट कैनु हजुर

थारूनके मुड्डा लैके थरूहट थरूहट कैनु हजुर।।
आदिवासी भूमिपुत्रके गीत दिलमे स’जैनु हजुर।।
•••••
बात का बटाउँ टीकापुर आन्दोलनके बेरिक।
खन्जाईल घर छोरके आन्दोलनमे गैनु हजुर।।
•••••
कोई न्याय अधिकार पैलि कि नाई पैलि पटैनि चलल।
डोसर रोज डसा बिगार बिगार मार पैनु हजुर।।
•••••
जरा डेनै खोजखोज थारूनके घर ,दुकान लुटपाट मचैनै।
जरल घर मारके पिरामे जबरे बरसाटीले छैनु हजुर।।
•••••
कोई प्रदेश भागल कोई पकरूवा पाईल पुलिसनसे।
अगुवा सकु जेल आन्दोलनके पिरा मनमे ड’बैनु हजुर।।
•••••
मुर्झुराईल हमार थारू आन्दोलन जने कब जिउगर हुई।
थारू हकके लग लर्ना हर रात अनेक योजना ब’नैनु हजुर।।
•••••
#असिराम डंगौरा
जोशीपुर ५ सिमराना