यथार्थ गजल

यथार्थ गजल

आँस नै रुकल डेख्के निहना पानीम उटराइल !
डेख्टी डेख्टी डेहरिक ढान जो पानीम छट्टाइल !!

घामपानी नै मानगिल कुछ हुइ कुछ करम कैके !
छिनघरिम मुहेक कौरा सक्कु सपना भस्काइल !!

घनी गहरा खोल्ठु घनी टे निहना पुल्ला झपोट्ठु !
सुर्टा लागल राटडिन भगन्वा रुवैना सम रुवाइल !!

बालेम जाम्गिल का खैम खवैम अपन बालबच्चन !
के बुझि जानि मोर पीडा सुस्कर्टी आँस खसाइल !!

हाँठगोर टुट्गिल पाँङ्घुल होगिनु का बँचल आब !
जो सपना,खुसी बुरहे मुवल महि भिखारी बनाइल !!

एच एम परिश्रमी