सब्ज लग्गु आक सुफ्लहिँ कैक!

सब्ज लग्गु आक सुफ्लहिँ कैक!

सब्ज लग्गु आक सुफ्लहिँ कैक!
हाँस हाँस माङ्गर गाइ छोरहिँ कैक!

ज्या करजाइट डुन्यँ डेखाइक लाककेल यिहाँ,
डुल्हि रुइ लग्लि निरुइल कहिँ कैक!

जन्नि अन्लक डिन डाईबाबन निकारल,
उ निस्वाँचक म्वार लर्का का सोचहिँ कैक!

टुँ निलिख्बो ट के लिख्डि यार,
थारु साहित्य ह्यार्टा हमन लिखहिँ कैक!

धनि मनैन्हँक लाक हुइटिन सिल्मिन्टिक घर ट,
सरक बनाइल बा सरकार गरिब बैसहिँ कैक!

@गणेश वर्तमान
ठाकुरबाबा न. पा. – गोब्रेला बर्दिया हाल-रुकुम पश्चिम