हेरागैल

गुरीगुरी आम फर्ना रुख्वक्, बगिया हेरागैल।
आम तुर्ती बितोरके धर्ना उ, ढकिया हेरागैल।

भिन्सर्हीं उठ्के ओखरीमे, धान कुट्ना हमार।
पुर्ख्यानी ढेंकिक चुक्का उ, चकिया हेरागैल।

तर-तेहुवार अइलेसे, लाल पियर देखैना ऊ।
फोङ्गहा झोंतिम् बहन्ना, सगिया हेरागैल।

कत्रा सुहावन देखैना,सुतेबेर फे मजा लग्ना।
हमार बन्कसके लस्रिक उ, खतिया हेरागैल।

घाम चाहे जार रही छुटी-छुटी बाबुनके लाग।
बाह्रौमास फरफराके उरैना, गतिया हेरागैल।

अंकर “अन्जान सहयात्री”
पथरैया-4 जबलपुर,कैलाली