चाेट खुकुरीलाई के थाहा

चाेट खुकुरीलाई के थाहा

घाउ कति दुख्छ निष्ठुरीलाई के थाहा ।
अचानाेकाे चाेट खुकुरीलाई के थाहा ।

याे ‘बुलबुल’ले गुँड बनायो कसरी ?
कति परिश्रम थियाे हुरीलाई के थाहा ।

©गुरुप्रसाद कुमाल ‘बुलबुल’