गरिबी यी त्वहार छावै प्रवास पठाइल दार्इ।

ना मरेसेक्ना ना बाँचेसेक्ना साँस पठाइल दार्इ ।

 

गैलेक कुछ दिन हुइलनैरहिस प्रदेशके उ ठाँउमे,
अाज अचानक बक्सा भरके लास पठाइल दार्इ ।